Rahul Gandhi on Kashmir Situation

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष और वायनाड से सांसद राहुल गांधी लगातार सोशल मीडिया के जरिए अलग-अलग मुद्दे पर मोदी सरकार पर निशाना साधने में लगे हैं। राहुल गांधी ने संसद से पारित श्रम सुधारों से जुड़े तीन विधेयकों को लेकर गुरुवार को सरकार पर निशाना साधा और आरोप लगाया कि किसानों के बाद मजदूरों पर वार किया गया है।

बता दें कि राज्यसभा ने बुधवार को उपजीविकाजन्य सुरक्षा, स्वास्थ्य और कार्यदशा संहिता 2020, औद्योगिक संबंध संहिता 2020 और सामाजिक सुरक्षा संहिता 2020 को मंजूरी दी, जिनके तहत कंपनियों को बंद करने की बाधाएं खत्म होंगी और अधिकतम 300 कर्मचारियों वाली कंपनियों को सरकार की इजाजत के बिना कर्मचारियों को हटाने की अनुमति होगी। लोकसभा ने इन तीनों विधेयकों को मंगलवार को पारित किया था और अब इन्हें राष्ट्रपति की मंजूरी के लिए भेजा जाएगा।

राहुल गांधी ने ट्वीट करते हुए लिखा, ‘किसानों के बाद मजदूरों पर वार। गरीबों का शोषण, ‘मित्रों’ का पोषण। यही है बस मोदी जी का शासन।’ इन विधेयकों को लेकर कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने भी सरकार पर निशाना साधा।

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने ट्वीट करते हुए लिखा ‘‘इस कठिन समय की मांग है कि किसी की नौकरी न जाए, सबकी आजीविका सुरक्षित रहे। भाजपा सरकार की प्राथमिकता देखिए। सरकार अब ऐसा कानून लाई है जिसमें कर्मचारियों को नौकरी से निकालना आसान हो गया है। वाह रे सरकार, आसान कर दिया अत्याचार।’’

इससे पहले कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने बुधवार को ट्वीट किया था, ‘मिस्टर मोदी ने रिश्तों के उन जाल को नष्ट किया है, जो कांग्रेस ने कई दशकों में बनाए और पोषित किए थे। पड़ोस में दोस्तों के बिना रहना खतरनाक है।’ दरअसल राहुल गांधी ने एक खबर का जिक्र करते हुए यह ट्वीट किया है।

राहुल गांधी ने इससे पहले किसान बिल को लेकर मोदी सरकार पर हमला बोलते हुए ट्वीट किया था, ‘2014- मोदी जी का चुनावी वादा किसानों को स्वामीनाथन कमिशन वाला एमएसपी। 2015- मोदी सरकार ने कोर्ट में कहा कि उनसे ये न हो पाएगा। 2020- काले किसान कानून। मोदी जी की नीयत ‘साफ’, कृषि-विरोधी नया प्रयास, किसानों को करके जड़ से साफ़, पूंजीपति ‘मित्रों’ का खूब विकास।’

कृषि विधेयकों के राज्यसभा में पारित होने के बाद राहुल ने ट्वीट किया था, ‘जो किसान धरती से सोना उगाता है, मोदी सरकार का घमंड उसे खून के आंसू रुलाता है। राज्यसभा में आज जिस तरह कृषि विधेयक के रूप में सरकार ने किसानों के खिलाफ मौत का फरमान निकाला, उससे लोकतंत्र शर्मिंदा है।’

वही, कोरोना के बढ़ते मामलों को लेकर उन्होंने सरकार पर हमला बोलते हुए कहा, ‘मोदी सरकार का अंधा अहंकार देश की बदहाली के लिए कभी भगवान तो कभी जनता को दोषी ठहराता है लेकिन खुद के कुशासन और गलत नीतियों को नहीं। देश कितने और #एक्स ऑफ मोदी झेलेगा?’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *