Rahul Gandhi on Kashmir Situation

Bihar Electoin 2020 एक्जिट पोल (Exit Poll) के नतीजों के बाद कांग्रेस ने विधायकों में सेंधमारी की आशंका को देखते हुए सेंधमारी रोकने की कमान एक बार फिर अपने विश्वस्त सिपाहियों को सौंपी है। ये सिपाही जीतने वाले विधायकों को एकजुट रखने के साथ ही भावी सरकार को लेकर सहयोगियों से बात भी करेंगे। कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी ने कई राज्यों में चुनाव के बाद हुई सेंधमारी की कोशिशों से सबक लेते हुए यह कदम उठाया है।

राहुल गांधी के फरमान पर कांग्रेस महासचिव रणदीप सिंह सुरजेवाला, दक्षिण बिहार के प्रभारी वीरेंद्र सिंह राठौर, पंजाब के विधायक गुरूकीरथ सिंह, राजस्थान सरकार के मंत्री रघु शर्मा, राजेंद्र यादव, झारखंड सरकार के स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता, स्क्रीनिंग कमेटी के सदस्य काजी निजामुद्दीन जैसे नेता बिहार पहुंच गए हैं। सोमवार की सुबह तक उत्तर बिहार के प्रभारी अजय कपूर, स्क्रीनिंग कमेटी के अध्यक्ष अविनाश पांडेय के साथ ही दूसरे कई अन्य नेताओं के भी बिहार आने की जानकारी कांग्रेस सूत्रों ने दी है।

पटना पहुंचे कांग्रेस के वरिष्ठ नेता घटक दलों के साथ मिलकर जहां सरकार गठन में आपसी सामंजस्य बनाएंगे। वहीं इनकी जिम्मेदारी पार्टी के विजयी उम्मीदवारों को बांधे रखने की भी होगी। कांग्रेस को आशंका है कि जैसे-जैसे महागठबंधन के पक्ष में नतीजे आएंगे वैसे-वैसे सेंधमारी का खतरा बढ़ेगा। इस लिहाज से सावधानी में कोई कोर-कसर नहीं रहने देना चाहती है।

बहरहाल कांग्रेस महासचिव सुरजेवाला ने पटना पहुंचने के बाद कहा कि जनता ने वोट सिर्फ सत्ता परिवर्तन के लिए नहीं बल्कि व्यवस्था परिवर्तन के लिए दिया है। एक्जिट पोल के जो नतीजे बताए जा रहे हैं महागठबंधन कहीं उससे से ज्यादा सीटों से प्रदेश में सरकार बनाएगा। उन्होंने कहा कि जनता ने इस बार नौजवान, किसान का विरोध करने वाली बेरोजगारों को दर-दर भटकाने वाली सरकार के खिलाफ वोट किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *